भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत और दलित / बाल गंगाधर 'बागी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दलित बस्ती से जब नग्मा कोई गंजरता है
गजल का तेवर ना उम्मीदी में बदलता है
गरीब दर पे खुशी बे चिराग लगती है
जब खुदी1 का नामोंनिशान मिटता है
आता है दलितों का जीना खुशी-खुशी
पर जाति के कब्र में दम बेहद घुटता है
गम से खुशी का नाम मिटता नहीं कभी
पर हंसी बहारों से हर गम नहीं मिटता है