भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत / आशा दूबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

का सांग रांधे भउजी
मिर्चा पताल
ए कनौजी में का हावे
भाजी चना दार
उहीच उही चटनी
अऊ भाजी चनादार
का साग ....

नोनी बो ननदिया
तै छिनमिन बडकरथस
कुछु रांधो परसो
तै रिसेंच अब्बड़ करथस
साग भाजी हरियर में
हाबे गुन हजार
उही उही चटनी अउ...

लाल भाजी खोंटनी
चौलाई अमारी
चेंज भाजी पालक
सेवाह में बड़ भारी
पेट हरु राखे खाये में मजेदार
का साग रांधे ...

मूंग राहेर उरीद
चना-मसरी बटुरा
देह टांठ राखे

ए जाने सबो चतुरा
दांत हड्डी चमचम ले राखे सबोदार
का साग रांधे...

सेमी कुंदरु खेकसी
करेला रमकेरिया
आलू संग बरबट्टी

पपिता तरोइया
दांत हड्डी मन बर ये
हाबे सबो सार
का साग रांधे भउजी

खाले कबा आमा
लिमऊ अंबरा अम्म्ठ |
पीस ले करौंदा के
चटनी ल चटपट
मुंह ला पंछार
का साग ....

मोला खाये बार डे भऊजी
ले बासी ला निकाल
मलिया मं दे भाजी
अऊ चटनी मजेदार
खाले मोर नंनदिया
मैं रांधे हब बोहर
का साग ....