भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत / गोपालप्रसाद रिमाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बखत भयो यही हो बेला नजर उघारी हेरिदेऊ
त्यो दिलबाट तमस हटाई उज्यालो हावा फैलाइदेऊ
जो देख्छौ हालत भित्री तहको
तिमीलाई अन्य भनूँ म कसरी?
जो सुन्छौ आवाज भित्री मनको
तिमीलाई वैरी भनूँ म कसरी?
हे देवी दुर्गे, जगत्की आमा, पुकार हाम्रो सुनिदेऊ
हामी नेपाली हाम्रो यो भाव सबमा जगाइदेऊ।