भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत 9 / सतरहवां अध्याय / अंगिका गीत गीता / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दान दैत सम्मान न जागल, तिरस्कार सन लागल
परते दान कुपात्र हाथ में, दान दोष तब जागल।

नै मलेछ के धेनु दान
नै चरितहीन के बेटी,
नै दुर्जन के भूमि दान दी
नै हिंसक के रोटी,
कपटी पाखण्डी के देलोॅ दान अकारथ लागल।

मातु-पिता-गुरु-भाय
मित्र-कवि हंता अत्याचारी,
परनिन्दक-ठग-चोर जुआरी
दान के नै अधिकारी,
मदपायी के देल दान, दाता सिर अपयश लागल।

भूखा-प्यासा-नंगा-रोगी
दान के ई अधिकारी,
अन्न-वस्त्र-जल-भूमि-औषधि
सब दानौं पर भारी,
दाता श्रेष्ठ चहेॅ छै जिनको नेह दान से लागल
दान दैत सम्मान न जागल, तिरस्कार सन लागल।