भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुज़रे हुए तवील ज़माने के बाद भी / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुज़रे हुए तवील ज़माने के बाद भी,
दिल में रहा वो छोड़ के जाने के बाद भी,

पहलू में रह के दिल नहीं दिया है बहुत फ़रेब,
रखा है उसको याद भुलाने के बाद भी,

गो तू यहाँ नहीं है मगर तू यहीं पे है,
तेरा ही ज़िक्र है मेरे जाने के बाद भी,

लगता है कुछ कहा ही नहीं है उसे ‘फ़राज़’,
दिल का तमाम हाल सुनाने के बाद भी,