भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुज़र है तुझ तरफ़ हर बुलहवस का / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुज़र है तुझ तरफ़ हर बुलहवस का
हुआ धावा मिठाई पर मगस का

अपस घर में रक़ीबां को न दे बार
चमन में काम क्‍या है ख़ार-ओ-ख़स का

निगह सूँ तेरी डरते हैं नज़र बाज़
सदा है ख़ौफ़ द़ज्‍दूँ को असस का

बजुज़ रंगीं अदा दूजे सूँ मत मिल
अगर मुश्‍ताक़ है तू रंग-ओ-रस का

'वली' को टुक दिखा सूरत अपस की
खड़ा है मुंतजिऱ तेरे दरस का