भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुड़िया / कुंवर नारायण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मेले से लाया हूँ इसको

छोटी सी प्‍यारी गुड़िया,

बेच रही थी इसे भीड़ में

बैठी नुक्‍कड़ पर बुढ़िया


मोल-भव करके लया हूँ

ठोक-बजाकर देख लिया,

आँखें खोल मूँद सकती है

वह कहती पिया-पिया।


जड़ी सितारों से है इसकी

चुनरी लाल रंग वाली,

बड़ी भली हैं इसकी आँखें

मतवाली काली-काली।


ऊपर से है बड़ी सलोनी

अंदर गुदड़ी है तो क्‍या?

ओ गुड़िया तू इस पल मेरे

शिशुमन पर विजयी माया।


रखूँगा मैं तूझे खिलौने की

अपनी अलमारी में,

कागज़ के फूलों की नन्‍हीं

रंगारंग फूलवारी में।


नए-नए कपड़े-गहनों से

तुझको राज़ सजाऊँगा,

खेल-खिलौनों की दुनिया में

तुझको परी बनाऊँगा।