भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुनाहों पर वही इन्सान को मजबूर करती है / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुनाहों पर वही इन्सान को मजबूर करती है।
जो इक बेनाम-सी फ़ानी-सी लज़्ज़त है गुनाहों में॥

न जाने कौन है गुमराह, कौन आगाहे-मंज़िल है।
हज़ारों कारवाँ हैं ज़िन्दगी की शाहराहों में॥

राहे-मंज़िल में सब गुम हैं, मगर अफ़सोस तो ये है।
अमीरे-कारवाँ भी है, उन्हीं गुमकरदा रोहों में॥