भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुमनाम ख़त / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने किराए के कमरे का समान समेटते हुए
आज शाम
तुम्हारे कुछ पुराने ख़त मिले
वो गुमनाम ख़त
जो तुमने किसी और के लिए लिखे थे
मेरे कमरे में बैठ कर
मेरे सामने
मुझसे बातें करते हुए
मन में फिर से वही सवाल उठ आए
किसके लिए थे ये ख़त?
क्यूँ किसी का नाम ना होता था इन पर?
क्यूँ मेरे पास रख छोड़ जाते थे तुम?
आज भी मेरा मन यह सोच रहा हैं
कहीं ये मेरे लिए तो नहीं थे?