भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुलमोहर के नीचे / शास्त्री नित्यगोपाल कटारे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितनी दफ़ा मिले हैं इस गुलमोहर के नीचे
यादों कर सिलसिले हैं इस गुलमोहर के नीचे

ये है हमारे प्यार का इकलौता राज़दार
क्या-क्या न गुल खिले हैं इस गुलमोहर के नीचे

पत्तों की पायजेब गुलों की मोहर गले
गहने गज़ब मिले हैं इस गुलमोहर के नीचे

पूरब से हम चले थे पच्छिम से आए तुम
दो दिल यहाँ मिले हैं इस गुलमोहर के नीचे

कैसे बुने थे हमने सपने बड़े बड़े
वे स्वप्न के किले हैं इस गुलमोहर के नीचे

पल में तुम्हारा रूठना और मेरा मनाना
नखरे हैं, चोचले हैं, इस गुलमोहर के नीचे

अब भी अधूरे हैं जो किए थे कभी यहीं
वायदों के काफ़िले हैं इस गुलमोहर के नीचे

अनचाहे वाकये भी यहाँ हैं दबे पड़े
शिकवे हैं कुछ गिले हैं इस गुलमोहर के नीचे