भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुलाब / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्रायोवा में
गुलाब के बगीचे के सामने

मैं देख रही हूँ इस दुनिया को
एक सुर्ख़ गुलाब की तरह

मैं देख सकती हूँ उन सबको
जो मेरे भीतर हैं
जब भी देखती हूँ
गुलाब की ख़ूबसूरती की तरफ़

जिन्हें पाल रही हूँ मैं
अपने दिल की मिट्टी से।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मणिमोहन मेहता’