भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रहण लागलोॅ चन्दा छै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्रहण लागलोॅ चन्दा छै
ई गर्दन लेॅ फन्दा छै।

गोड़ संभाली केॅ ही रखियो
आगू-आगू खन्दा छै।

लोकतंत्र केॅ डुबलै समझोॅ
नीति-नियम जे गन्दा छै।

नीचेॅ सेॅ लै केॅ ऊपर तक
काला धन के धन्धा छै।

जान लिबैया तोरोॅ बोली
लकड़ी पर जयों रन्दा छै।

सौ खूनोॅ के केस चलै छै
तहियो नै शर्मिन्दा छै।

सारस्वतोॅ के वाणी ही तेॅ
गुग्गुल-रजनीगंधा छै।