भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रिस्थी / मोहन पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊनाळा रा दिनां में
डोकरी
हेर्या, सूई-डोरा
अर त्यार करण लागी
फाटा गूदड़ा-कोथळ्यां।
डोकरा री फाटी
धोतियां नैं सींव’र
काढ़ द्या कानड़ा....
नान्या री पैंटां रै
लगा दी भांत-भांत री कार्यां
बूढी आंख्यां रो ग्रिस्थी पे पहरो है
ओ ई ठाला दिनां रो धारो है।