भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रैण्ड इन् में / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने अपनी आँखों को नए गाँव दिखाए
मैंने इन सबका आनन्द लिया

मैंने इस पृथ्वी को बेहतर ढंग से समझा
और खुद को हर तरफ पाया
मानो इसे अपने ही हाथों से बनाया है

मैंने बारिश से उसका नाम पूछा
उसने कहा छपछप

मैं सोई, अन्धकार गिरा मुझ पर
पानी की तरह

ग्रैण्ड इन् में
मैंने तुम्हे माँगा ।