भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

घड़ी’क रोवै घड़ी’क गावै सांस / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घड़ी’क रोवै घड़ी’क गावै सांस
नित नुंवा तमाशा दिखावै सांस

आप तो पिदै कोनी घड़ी भर ई
मिनख नै अष्टपौर पिदावै सांस

बादळ देख नाचै ऐ मोर जिंयां
थे आवो तो नाचै-गावै सांस

‘खो’ मिलतां ई भागै छोरो जिंयां
सांस लारै भागती आवै सांस


लागै थांरी आदत सीखगी आ
आवण री कह कोनी आवै सांस