भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घड़ी हरख भरी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अचाणचक आवै हिचकी
बंध जावै एक अदीठ पुळ
ईं खुणै सूं बीं खुणै
देखूं म्हैं-
बिन्नै सूं भाज़ी आवै तूं
इन्नै सूं म्हैं

बीच पुळ
बाथां भेटा हुवां आपां
सांसां सागै गुंथ जावै
सांसां रा तार

थिर हुयोड़ो बगत
थिर ई रैवै
आ घड़ी हरख भरी

औ ई उच्छब
औ ई लाखीणो तिंवार
आपां मनावां बारम्बार !