भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घनख अंधारी रात, दीवो जगा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घनख अंधारी रात, दीवो जगा
उजास चावै रात, दीवो जगा

बिना चांद टीकै ई पळकै रूप
मुळक उठै आ रात, दीवो जगा

बै जुगां सूं चींथै सुख-सांस नै
चवड़ै कर हर घात, दीवो जगा

इण जोत सूं जोत जगती जावै
जोत में करामात, दीवो जगा

म्हैं नीं रैवां, पण रैवै उजास
आ लाखीणी बात, दीवो जगा