भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घरां सूं निकळ्यो म्हैं देखण नै तमासो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घरां सूं निकळ्यो म्हैं देखण नै तमासो
तमासै में बणग्यो म्हैं खुद ई तमासो

भूवाजी भूख सूं नित करै बाथेड़ा
भतीजा पूछै- झुग्गा-टोपी फेर कद गासो

आगला आंसू तो सूक्या ई कोनी हाल
लोग पूछै म्हांनै- अबै फेर कद गासो

लील सूक दोनूं राखी म्हैं तो म्हारी
पण तो ई पख में पड़्यो कोनी पासो

हाथ ढकतां पग ऊघड़ै, पग ढकतां हाथ
थकां सीरख आछो रचयो औ रासो