भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घरु सुहिणो / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ॾिसो ही मुहिंजो घरु सुहिणों
भितियूं-छितियूं ऐं दरु सुहिणों।

ॾियो तुलसीअ ते ॿारे अम्मां,
लॻे उहों पघरु सुहिणों।

करे आरती शाम जो ॾाॾी
लॻे थो ॼणु मदंरु सुहिणों।

पढ़े पाठु गीता जो बाबा,
हीऊ संस्कारी दरु सुहिणो।

भलु घुमो देसु-परदेसु
त बि अबाणो घर सुहिणों।
डि-सो मुहिंजो घर सुहिणों।