भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर में छिप जाइए, अच्छा रहेगा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर में छिप जाइए, अच्छा रहेगा।
अब हो चुप जाइए, अच्छा रहेगा।

लोगों को पत्थर चुनते देखा है,
अब इधर न आइए, अच्छा रहेगा।

हर घड़ी लगा है हंगामे का डर,
जलसा न लगाइए, अच्छा रहेगा।

हर मोड़ खड़े लोग इंतज़ार में,
बाहर न आइए, अच्छा रहेगा।

हर आदमी हुआ आज आईना,
दूर हट जाइए, अच्छा रहेगा।