भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर / फ़्रेडरिक होल्डरलिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाविक घर लौटता है
           सुखी मन से
लौटता है उन दूर-दूर के किनारों से
           शान्त बहते निर्झर के पास
           जहाँ उसने काटा था फ़सलों को ।
इसलिए अब मुझे भी लौटना चाहिए,
लेकिन मेरे पास क्या है काटने को
           अलावा दुःख के ?
घर के ऐ प्यारे किनारो,
           (जहाँ मैं कभी बड़ा हुआ था)
क्या तुम चुप कर दोगे
           प्रेम की यातनाओं को ?
ऐ मेरे बचपन के वन-प्रान्तो,
जब मैं लौटूँगा
क्या तुम मुझे दोगे
           फिर से
           शान्ति और विश्राम ?