भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घाटी में धूप / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर की

पहली किरन से

पुलक –भरा

स्पर्श पाया ,

जैसे शिशु नींद में

रह-रहकर मुस्कराया ।

धूप उतरी

घाटियों में ,

ज्यों उतरता

सीढ़ियों से

पीठ पर लादे हुए

बस्ता किताबों का

एक छोटा

अबोध बच्चा ।

और जादू रौशनी का

धरा पर

उतर आया ।

बह उठी है

भीड़ सड़कों पर

पनाले –सी

छा गई गर्मीं

ढलानों पर

और वक़्त

थके चूर-चूर बच्चे –सा

कुनमुनाया ।