भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घाम पड़े, धरती तपै रे / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

घाम पड़े, धरती तपै रे, पड़े नगांरा री रोल
भंवर थारी जांत मांयने

बापाजी बिना कड़ू चालणू रे
बापा मोत्यां सूं मूंगा साथा

भंवर थारी जांन मांयने
माताजी बिना केडूं चालणू रे

माताजी हरका दे साथ
भंवर थारी जान मांयने

घाम पड़े, धरती रपै रे, पड़े नागरां री रौल
भवंर थारी जांन मांयने