भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

घायल परिंदों की इतनी-सी कहानी देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घायल परिंदों की इतनी-सी कहानी देखो।
उनपे हुई थी मौसम की मेहरबानी देखो।

सबको खुश करने का जादू लेकर निकले आज,
अब गली-गली हो रहे दौरे तूफानी देखो!

ऐसी हरक़तों से हंसा रहे ज़माने को आज,
हंसी की जगह आ रहा आंखों से पानी देखो!

सामने खड़े होने वाले देख रहे अंधेरे,
जमहूरी-सल्तनत की नयी कहानी देखो!

भोर के सभी सपने क्यों हो रहे हलाल यहां,
सवाल पूछ लिया हमने, हुई नादानी देखो!