भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घास / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं उग आती हूँ
दीवारों के कोनों पर
जहाँ वे जुड़ती हैं
वहाँ जहाँ वे मिलती हैं
वहाँ जहाँ वे धनुषाकार होती हैं
वहाँ मैं रोप देती हूँ
एक अन्धा बीज
हवा में बिखराया हुआ
धीरज से फैल जाती हूँ
ख़ामोशी की दरारों में
मैं प्रतीक्षा करती हूँ
दीवारों के धराशायी होने
और धरती पर लौटने की
तब मैं ढाँप लूँगी
नाम और चेहरे ।