भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घास / मणि मोहन / कार्ल सैण्डबर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊँचे - ऊँचे ढेर लगा दो लाशों के
ऑस्ट्रेलिज़ और वाटरलू में।
मिट्टी में दबा दो उन्हें
और मुझे अपना काम करने दो —
मैं घास हूँ, फैल सकती हूँ हर जगह।

ऊँचे ढेर लगा दो गेटिज़बर्ग में
ऊँचे ढेर लगा दो ईप्रा और वेडर्न में।
मिट्टी में दबा दो उन्हें
और मुझे अपना काम करने दो।

दो साल, दस साल, और फिर
यात्री पूछेंगे कण्डक्टर से :
यह कौन सी जगह है?
इस वक्त हम कहाँ हैं?

मैं घास हूँ ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : मणि मोहन'