भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घोड़े को भिगोना / राबर्ट ब्लाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितना अजीब है सोचना
सारी महात्वाकांक्षाओं को छोड़ देने के बारे में !
अचानक मैं देखता हूँ साफ़-साफ़ आँखों से
बर्फ की एक सफ़ेद पपड़ी
जो अभी-अभी गिरी है घोड़े के अयाल पर !

अनुवाद : मनोज पटेल