भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंगो-रबाब से न मये-ख़ुशगवार से / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंगो-रबाब से न मये-ख़ुशगवार से
लुत्फ़े-बहार है उसी जाने बहार से

हंगामे-सैर चलते हो बच कर मज़ार से
इतनी कदूरतें मिरी मुश्ते-ग़ुबार से

मामूर हो रही है फ़ज़ा क्यों ग़ुबार से
किस को उठा रहे हैं तिरी रहगुज़ार से

लाने लगी हैं रंग मिरी बे-करारियां
आने लगे हैं वो भी नज़र बे-क़रार से

छोड़ा न आसमां ने निशाने-मज़ार तक
ज़ालिम को लॉग था मिरे मुश्ते-ग़ुबार से

देखें तो किस को है सरे फ़रयाद हश्र में
तुम सब को देख लो निगह-ए-शर्मशार से

आंखों में बस रही है किसी की बहारे-हुस्न
तस्कीन क्या हो जलवा-ए-हुस्ने-बहार से

बैठे हैं आस रख के तिरे इल्तिफ़ात की
उट्ठेंगे ख़ाक हो के तिरी रहगुज़ार से

टूटी न आस वादा-ए-फ़र्दा की ऐ 'वफ़ा'
छूटी न जान कश्मकशे-इंतिज़ार से।