भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंपे के पेड़ नीचे उतरे बने मियाँ / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चंपे के पेड़ नीचे उतरे बने मियाँ[1]
बाजी लगी दिलोजान, मैं बारि जाऊँ, मैं बारि जाऊँ।
दुलहा है भोला नादान, मैं बारि जाऊँ, मैं बारि जाऊँ॥1॥
हारूँ तो बने मियाँ बँदरी[2] मैं तेरी।
जीतूँ तो सेजिया गुलाम, मैं बारि जाऊँ।
बाजी लगी दिलोजान, मैं बारि जाऊँ॥2॥
पलँगे की पट्टी टूटी, मोतियों की लर टूटी।
टूटी है पलँगे नेवार, मैं बारि जाऊँ।
दुलहा है भोला नादान, मैं बारि जाऊँ॥3॥
उठ मियाँ बँदरे[3] हुआ है सबेरा।
अम्माँ खड़ी इँतजार, मैं बारि जाऊँ॥4॥
मेरा तो दिल लाड़ो तुमसे लगा है।
अम्माँ खड़ी झख मार, मैं बारि जाऊँ।
दुलहा है भोला नादान, मैं बारि जाऊँ॥5॥

शब्दार्थ
  1. प्यारे दुलहा
  2. सेविका
  3. प्यारे दुलहा