भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चकरी / लैंग्स्टन ह्यूज़ / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ है कलूटों के लिए अलग हिस्सा
इस चकरी पर
महाशय, क्योंकि मैं इसपर चढ़ना चाहता हूँ?

सुदूर दक्खिन में जहाँ का मैं हूँ
गोरे और काले लोग
अगल-बग़ल नहीं बैठ सकते।

सुदूर दक्खिन में रेलगाड़ी में
कलूटों का अलग डिब्बा होता है।
बस में हम लोगों को पीछे ठूँस दिया जाता है।

लेकिन यहाँ
कोई पिछवाड़ा नहीं है
इस गोल चकरी में।

कौनसा है वह घोड़ा
जिस पर काला बच्चा बैठे?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र