भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चक्कर / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरमी में जब मिलीं छुट्टियाँ
डेढ़ माह की पूरी,
चूहे जी तब बड़ी शान से
पहुँच गए मंसूरी।
‘माल रोड’ पर हुई अचानक
मौसी जी से टक्कर,
गिरकर वे बेहोश हो गए,
आया ऐसा चक्कर।

[धर्मयुग, 11 मई 1975]