भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चन्द्रावली हरण / गढ़वाली लोक-गाथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

द्वारिका मा लै गैन कृष्ण घणी[1] सभा,
कबीर कमाल बैठ्या, नारद मुनि-रिषि।
कछड़ी[2] बैठी गैन कृष्ण का सूरदास
अंतरजामी कृष्ण को अंतरध्यान होइगे!
सुकली[3] कोठड़ियों लगी सुतरी[4] पलंग,
सुतरी पलंग गेलुवा[5] विछोणा।
तख कृष्ण बैठी छई सत्यभामा राणी,
दूध केला, छई राणी रुकमणी।
राणी रुकमणी प्रभो, इना बैन बोलदी-
तुम बतावा बांदो[6], प्रभु मैं बतौलू बैखू[7]
द्वारिका नारैण कृष्ण पूछण लै गैन-
बतावा रुकमणी बैखू मा बैख
तुम बतावा बैखू, मैं बतौलू बांदू।
हां बैखू मा[8] बैख होलू सांवलो नारैण!
मैंन बतैन बैख प्रभु, तुम बतावा बाँदू।
बांदू मा की बांद इन्दर की परी।
मैं सी रूपवंती सी न भुंच्यान[9] ज्वानी[10],
सबू से रूपवंती मेरी बैण[11] चन्द्रावली।
चन्द्रगढ़ मा रंदी बैण चन्द्रावली
तैंका रूपन सूरज धुमैलो[12],
रूप की बातुली[13] होली बाली चन्द्रावली।
तब समझलू मैं तुम रौलू को रौतूलो,
जब बेवैक[14] लाला मेरी बैणी चन्द्रा।
द्वारिका ठाकुर खरो दीलो आणो[15]
तब मेरा नारैण कृष्ण पूछा लैगैन-

बतावा रुकमणी तुम खरो मनसूबो,
कनकैक बिवै ल्यौण तेरी बैण चन्द्रा।
तुम बणा भगवान बद्री[16] का फेरवाल[17],
तब जावा नारैण चन्द्रावली गढ़।
अपणी चाडी[18] को कृष्ण ब्रम तिलक पैरी,
कृष्ण तब बणी गेन फग्वाल।
मातमी फेग्वाल छऊँ, टीका पैन्याला चंदन।
सूणी चन्द्रान बोलण लैगे।
जा दू स्वांरा[19] चेली[20], टीको लौ परसाद!
तब जांदी स्वांरा चेली फेग्वाल का पास,
तेरा हात चेली, मैं टीकू नी देन्दू!
टीको-परसाद द्यूलो राणी-बौराण्यों[21],
टीको-परसाद द्यूलो पदों का डोलौ[22]
स्वांरा चेली जांदी चन्द्रावली का पास,
नी देन्दू फेग्वाल वो टीको चन्दन।
राणी चन्द्रावली तब बोलण लै गैन:
वो फेग्वाल नी छ, वो छ द्वारिका नारैण।
द्वारिका भेना की तेरी जोई[23] राँड ह्वान।
तब मेरा नारैण ऐगे[24] श्रवण[25] द्वारिका!
बतौवा रुकमणी हैकौ मनसूबा,
कनकैक[26] बेवैक[27] ल्यौणे तुमारी वैण चन्द्रावली?
तुम धरा नारैण छोरा[28] को भेष,
चन्द्रावली का सात तुम नौकर होई जावा।
गरीब गता[29] करे कृष्णन, चीरी[30] लत्ता[31]
तब जांद कृष्ण चन्द्रावली का गढ़।
मैं गरीब छौरा छौं क्वी नौकर धन्याला।

इनू पूछद सुँवार, तू नयो छोरा छई,
तिन[32] तनखा क्या लेण?
हजार बैठण की ल्यूलो, हजार उठण की।
इनू पूँछ सुँवार, तिन काम क्या देण?
पेन्दो[33] बाछलो[34] न पकड़ौं,
रोन्दो बच्चा नी थामौं।
नौकर छोरा नी यो, यो छ द्वारिका को भेना।
द्वारिका भेना, तेरी जोई रांड ह्वान।
तब कृष्ण भगवान निराश ह्वैक,
लुबड्याँदी[35] घौणी[36], तिरछी मोणी[37],
श्रवण द्वारिका लौटीक आई।
हे रुकमणी, मेरी कनी फजीती होई!
कुनकै[38] बेवैक[39] लयौण राणी चन्द्रावली?
दया ऐगे तब राणी रुकमणी,
तुम धरा विष्णु रुकमणी को रूप।
तु जावा नारैण त चन्द्रागढ़,
चन्द्रावली मा बोल्यान[40] तुम रोइक-
तेरो भेना[41] चन्द्रा, स्वर्गवासी ह्वैन!
आज भुली[42] चन्द्रावली तेरी दीदी राँड ह्वैगे।
दणमण[43] आँसू धोल्यान[44] तुम,
तोई छोड़ी भली, कुई आसरो नी मेरो।
अपणी चाड़ी[45] को भगवान धरे रुकमणी को रूप,
स्वाग[46] उतारे, वणी गैन रांड!
पहुँचीने भगवान चन्द्रा का भौन[47]
छोड़दे पथेणा[48] नेतर[49] रांग जसा बुंद,
आज भुली चन्द्रा, मैं रांड होई गयूं।

तेरो भेना कृष्ण स्वर्गवास ह्वै गैन।
सेवा लगौंदी बैणी तैं तब चन्द्रावली,
लीगे गुप्त कोठड्यों सुतरो[50] पलंग।
गेलम[51] बिछौणा, सुकला भौन।
रातुड़ी[52] समै[53] होय संझा की बेला,
होई गये देवतौं की देवा[54] देन्दी बगत।
मेवा मिष्टान भोजन खलौंदी वा,
सेई गैन तब कृष्ण भगवान।
चन्द्रावली वीं रात नींद नी आई,
देखदी रै वा रुकमणी बैणी।
तबरेक[55] वीं को ढक्याण[56] फरके-
ढबरियाली[57] पीठ देखी वीन कंकरियालो[58] माथो,
जजरियालो[59] गात देखे नौन्याली आतमा।
देवी चन्द्रावली का मन सुभा[60] पड़ीगे।
यात होली आतमा बैख को,
देवी चन्द्रावलीन सर्सूं को रूप धरे।
आफू तब कृष्ण भौंर रूप होइगे।
चन्द्रावली न सर्सू[61] को रूप छोड़े,
पोथला[62] को रूप धरे।
अगाड़ी[63] पोथली भागदे, पिछाड़ी द्वारिका नारैण भौंर[64]!
चन्द्रावली पौछीगे[65] नारैण जमुनी[66] छाल[67],
चन्द्रावली बणी गए पाणी की माछी,
कृष्णन तबारे ही ओद[68] को रूप धरियाले।
हे कृष्ण मच्छी पकड़ी लैगीन छाला।
तब भगवान प्रकट होई गैन,
मोर मुकुट पैरे, गाडे[69] मोहन मुरली।
देवी चन्द्रावली देखदी ही रै गए।
तब जंदेऊ[70] लगौंदी स्या-
अपण भेना कृष्ण।
तब सजे भगवान औंला[71] सरी डोला।
पंचनाम देवता ऐन, देवी पार्वती ऐन,
कुन्ती, द्रोपदी मांगल गांदी!

शब्दार्थ
  1. बड़ी
  2. सभा
  3. सफेद
  4. साफ
  5. गद्देदार
  6. सुन्दरियाँ
  7. मर्द
  8. में
  9. भोगना
  10. जवानी
  11. बहन
  12. धूमिल
  13. बाती, ज्योति
  14. ब्याह कर
  15. ताना
  16. बदरीनाथ
  17. पंडित, पंडा
  18. लिए
  19. स्वारां, नाम
  20. दासी
  21. बहूरानी
  22. बहुएँ
  23. स्त्रियाँ
  24. आ गये
  25. सोने की
  26. किस प्रकार
  27. ब्याह कर
  28. लड़का
  29. दशा
  30. फटे
  31. कपड़े
  32. तुमने
  33. दूध पीता
  34. बछड़ा
  35. लटका
  36. सिर
  37. गर्दन
  38. किस प्रकार
  39. ब्याह कर
  40. बोलना
  41. जीजा
  42. छोटी बहन
  43. टपटप
  44. गिराना
  45. लिए
  46. सुहाग
  47. भवन
  48. रोते
  49. नेत्र
  50. साफ
  51. गद्देदार
  52. रात
  53. समय
  54. दीपदान
  55. तभी
  56. ओढ़ना
  57. पुष्ट
  58. चौड़ा, चमकता
  59. खुरदरा
  60. शक
  61. खटमल
  62. पक्षी
  63. आगे
  64. भौंरा
  65. पहुँच गयी
  66. यमुना
  67. किनारे
  68. मछियारा
  69. निकाली
  70. जयदेव, नमस्कार
  71. आँवला