भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चरखो तो ले ल्यूँ, भँवरजी, रांगलो जी / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चरखो तो ले ल्यूँ, भँवरजी, रांगलो जी
हाँ जी ढोला, पीढ़ा लाल गुलाल
तकवो तो ले ल्यूँ जी, भँवरजी, बीजलसार को जी
ओ जी म्हारी जोड़ी रा भरतार
पूणी मंगा ल्यूँ जी क बीकानेर की जी
म्होरे म्होरे री कातूँ, भँवर जी, कूकड़ी जी
हाँ जी ढोला, रोक रुपइये रो तार
म्हे कातूँ थे बैठा विणज ल्यो जी
ओ जी म्हारी लल नणद रा ओ वीर
अब घर आओ प्यारी ने पलक न आवड़े जी
गोरी री कमाई खासी राँडिया रे
हाँ ए गोरी, कै गांधी कै मणियार
म्हे छाँ बेटा साहूकार रा जी
ए जी म्हारी घणीए प्यारी नार
गोरी री कमाई सूँ पूरा न पड़े जी

भावार्थ

--'एक रंगीला चरखा ले लूंगी मैं, ओ प्रियतम ! अजी ओ ढोला, एक लाल-गुलाल पीढ़ा ले लूंगी । उत्तम, पक्के लोहे का, ओ प्रियतम ! मैं तकला ले लूंगी । अजी ओ, मेरी जोड़ी के भरतार ! बीकानेर से पूनियाँ मंगवा लूंगी, एक-एक मोहर के दाम से कातूंगी एक-एक कूकड़ी (पूनी) । अजी ओ ढोला, एक-एक रुपए का होगा एक-एक धागा । मैं कातूंगी और तुम बैठे इसका व्यवसाय करना । अजी ओ, मेरी लाल ननद के भाई! जल्दी घर आओ, तुम्हारी प्यारी को अब पल भर भी चैन नहीं ।'

--'स्त्री की कमाई खाएगा कोई नामर्द, या कोई इत्र बेचने वाला, या कोई मनिहार, ओ रूपवती ! मैं तो साहूकार का बेटा हूँ । हे मेरी बहुत प्यारी नारी ! पत्नी की कमाई से काम नहीं चलता ।'