भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चली जाओ / ज़्देन्येक वागनेर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चली जाओ
अगर तुम जाना चाहती हो

वहाँ तक
जहाँ से व्योम-गंगा बहती है।

तुम्हारी आँखों की
चमकीली तारिकाएँ
मेरे दिल में से तो

कभी ग़ायब न होंगी।



अब यही कविता चेक भाषा में पढ़े :

Běž si


Běž si,
když chceš,
až tam,
odkud vytéká Mléčná dráha.
Hvězdy tvých očí
však ve mně
nevyhasnou.