भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चली तफरीक़ की ऐसी हवा रंगे चमन बिगड़ा / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चली तफरीक़ की ऐसी हवा रंगे चमन बिगड़ा
फज़ाए सब्ज़ा बिगड़ी मंज़िरे-सर्वो-समन बिगड़ा

गुलों पर शिद्दतें-जौरे-खजां से क्या बनी या रब
कि अंदाज़े-नवाए-अंदलीबे-नग़मा-ज़न बिगड़ा

बनाया सब को फिर कुछ इस तरह उस शोख़ पुरक़न ने
हर अहले-अंजुमन से फिर अहले-अंजुमन बिगड़ा

बिगड़ने की वबा फैली है इस दिल के बिगड़ने से
जो दिल बिगड़ा, नज़र बिगड़ी, ज़बां बिगड़ी, दहन बिगड़ा

बिगाड़ ऐसा न देखा था पहले इन आंखों ने
दिमागे-शैख़ बिगड़ा और मिजाज़े- बरहमन बिगड़ा

न अब तादीब में शफक़त न शोख़ी में अदब बाक़ी
बुज़ुर्गों की रविश बिगड़ी, अज़ीजो का चमन बिगड़ा

अज़ाबे-जां हुई हैं बेड़ियां आखिर ग़ुलामी की
नज़र आता है अब कुछ ऐ 'वफ़ा' हाले-वतन बिगड़ा।