भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो अब मिल भी लें / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो अब मिल भी लें
सारी गिला-शिकवो
शिकायतों को दूर करें
कांकड पर अवस्थित
बोरड़ी के बैर खा कर
मीठे है बहुत इसलिए
मीठे हो चलें
चलो अब मिल भी लें।
तुम पणिहारी के वेश में
प्रतीक्षा करना
बीच गांव वाली
उन डिग्गीयों के पर
जहां गांव के सारे शक
समाप्त हो जाते है!