भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो कुछ बुझे-बुझे ही सही / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो कुछ बुझे-बुझे ही सही।
मन में सपने जगे तो सही।

होंठ तक न हिले जिनके कभी,
हकला कहने लगे तो सही।

बहुत दृढ़ बने दुर्ग उनके,
कुछ-कुछ ढहने लगे तो सही।

बर्फ़ बनकर जम चुके थे जो,
रिस-रिस बहने लगे तो सही।

भूठ के साथ बहुत नंगे थे,
अब कुछ पहने लगे तो सही!