भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो लौट चलें / अदोनिस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो लौट चलें
उन गलियों में जहाँ हम भटका करते थे
जहाँ हमने दुनिया बसते देखा
अपनी साँसों की झीलों में
और वक़्त आया-जाया करता था टूटी हुई खिड़कियों से

हम घूमते थे अपनी बर्बादी के खंडहरों में, अपनी नादानियों के आईने में
बेजान कागज़ के शब्दकोषों में
और कोई निशान नहीं छोड़ते थे हमारे क़दम

चलो फिर से चलें
अपने बेहतर दिनों के बगीचे में


अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल