भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल जाबो देखन / रमेशकुमार सिंह चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल जाबो देखन, नाचा पेखन, कतका सुघ्घर, होवत हे।
जम्मो संगी मन, अब्बड़ बन ठन, हमन ल तो, जोहत हे।।
नाचत हे बढि़या, ओ नवगढि़या, परी हा मान, टोरत हे।
जोकर के करतुत, हसाथे बहुत, सब्बो झन ला, मोहत हे।