भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल मेरी ढोलकी / द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल मेरी ढोलकी ढमाक-ढम,
नानी के घर जाते हम।
चल मेरी ढोलकी ढमाक-ढम
नहीं रुकेंगे कहीं भी हम!
चल मेरी ढोलकी ढमाक-ढम,
दूध मलाई खाएँगे हम।
चल मेरी ढोलकी ढमाक-ढम,
मोटे होकर आएँगे हम।