भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल सोवे चमन साक़ी सरमाया गुलाबी / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल सोवे चमन साक़ी सरमाया गुलाबी
ईमाए क़दह नोशी ग़ुंचे की गुलाबी है

ऐ अबर-ए-मज़ा रहमत क्या शिद्दत-ए-बारां है
अफ़लाक का उन रोज़ों जो बरज है आबी है

ऐ आफियत अंदेशो क्या क़सर बनाते हो
आग़ाज़-ए-इमारत का अंजाम ख़राबी है

है कौन जो यहां आ के दो दिन को नहीं भटका
मय खान-ए-आलम में जो है सौ शराबी है

क्या शायर-ए-शैतानी फिक्र अपनी करें आली
हर मिस्रा गर अपना इक तीर शहाबी है