भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँद की आदतें / राजेश जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाँद से मेरी दोस्ती हरगिज़ न हुई होती
अगर रात जागने और सड़कों पर फ़ालतू भटकने की
लत न लग गई होती मुझे स्कूल के ही दिनों में

उसकी कई आदतें तो
तक़रीबन मुझसे मिलती-जुलती-सी हैं
मसलन वह भी अपनी कक्षा का एक बैक-बेंचर छात्र है
अध्यापक का चेहरा ब्लैक बोर्ड की ओर घुमा नहीं
कि दबे पाँव निकल भागे बाहर...

और फिर वही मटरगश्ती सारी रात
सारे आसमान में