भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँद झुक गया है / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाँद झुक गया है खड़े खड़े
अधरात के बाद
किसी के इंतजार में
किसी के प्यार में
अकेला
फेंकता उजेला

रचनाकाल: २२-१०-१९६७