भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँद / आलोक श्रीवास्तव-२

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(१)

आज अचानक चांद दिख गया
समूचा रुपहला चांद

नवंबर की एक आधी रात का
यह चांद
किसी की याद है

धानी लिबास में लिपटा
एक चेहरा है
दूर जाता हुआ
समय में ।

(२)

तुम्हारे चेहरे को
इस चांद की साक्षी में
हथेली में थाम कर चूमना चाहता था

पूरे चांद की यह कैसी रात है
कि उस चेहरे का दिखना तक
अब मुहाल नहीं !