भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँद / गुल मकई / हेमन्त देवलेकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह आधे चंद्रमा को
हाथ में उठा लेती है
वह आधे चंद्रमा के
आर-पार देखती है
वह काग़ज़ पर
आधे चंद्रमा के
टुकड़े उतार लेती है
वह आधे चंद्रमा को
फ़िर साबुत बचा लेती है