भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँद / यादराम 'रसेंद्र'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम्मी से यों रोकर बोली-
मेरी जीजी नंदा-
जाऊँगी स्कूल तभी, जब
दिखला दोगी चंदा!
मम्मी बोली-चुप रह बिटिया
कहना मेरा मान,
पापा जी का हैट हटाकर
उधर देख आ चाँद।