भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँद / राबर्ट ब्लाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूरा दिन कविताएँ लिखने के बाद
मैं निकल जाता हूँ चीड़ के पेड़ों के बीच चाँद देखने के लिए
दूर जंगल में बैठता हूँ चीड़ के एक पेड़ से टिककर
अपनी ड्योढ़ी उजाले की तरफ कर रखी है चाँद ने
मगर अँधेरे में है उसके घर के भीतर का हिस्सा

अनुवाद : मनोज पटेल