भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चांदी रा जूता / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बै रीसां बळता आया
अर भांडण लाग्या हजारीमलजी नै
बां री सात पीढियां समेत
हजारीमलजी हुकम दियो मुनीम नै
-आं नै बांटो रेवड़ियां
    पूछो कै और कांई चाईजै
अबै बै कैवै-
हजारीमलजी आदमी है भला
बीं बगत ऊक-चूक हुयगी ही
   म्हांरी अकल अर दीठ ।