भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चांद: एक चितराम / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारै छोरै
आपरै ज्यॉमेट्री-बॉक्स खोल्यो
परकार काढ़ियो
कागद माथै
एक वृत मांड’र
बीं में पीळो रंग भर दियो

बोल्यो-
पूनम रो चांद है ओ
बताओ किसो क लागै ?

म्हैं बोल्यो-
लारलै दिनां
पीळीयै में लागतो
जिसो तूं
एकदम बिसो ई !