भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चांद धरती पे उतरता कब है / कविता किरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आईना रोज़ सँवरता कब है
अक्स पानी पे ठहरता कब है?

हमसे कायम ये भरम है वरना
चाँद धरती पे उतरता कब है?

न पड़े इश्क की नज़र जब तक
हुस्न का रंग निखरता कब है?

हो न मर्ज़ी अगर हवाओं की
रेत पर नाम उभरता कब है?

लाख चाहे ऐ 'किरण' दिल फ़िर भी
दर्द वादे से मुकरता कब है?